सिर्फ नैक नहीं करेगा संस्‍थानों की ग्रेडिंग

शिक्षा

नई दिल्लीः देशभर के विश्वविद्यालयों और कॉलेजों सहित उच्च शैक्षिक संस्थानों में शैक्षिक गुणवत्ता तथा मानकों के आधार अब केवल राष्ट्रीय मूल्यांकन एवं प्रत्यायन परिषद (नैक) ही ग्रेडिंग नहीं करेगा। विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (यूजीसी) ने ग्रेडिंग के लिए सरकारी और अर्द्धसरकारी एजेंसियों को भी हरी झंडी दे दी है। ये सभी एजेंसियां मूल्यांकन सलाहकार परिषद (एएसी) के निर्देशन में काम करेंगी।

एएसी में विशिष्ठ शिक्षाविद्, उच्चतर शिक्षा, मूल्यांकन एवं प्रत्यायन क्षेत्र के दस विशेषज्ञ होंगे। एएसी ही मूल्यांकन एवं प्रत्यायन एजेंसियों (एएए) के लिए नियम और मानक तय करते हुए उनकी निगरानी करेगा।

यूजीसी ने इसके लिए ‘रिक्गनिशन एंड मॉनिटिरिंग ऑफ असेसमेंट एंड एक्रीडिएशन एजेंसीज रेगुलेशन 2018 लागू कर दिया है। अभी तक देश में विवि और कॉलेजों के लिए राष्ट्रीय मूल्यांकन एवं प्रत्यायन परिषद (नैक) तथा राष्ट्रीय प्रत्यायन बोर्ड (एनबीए) ही ग्रेडिंग करती हैं, लेकिन भविष्य में इन दोनों संस्थानों के साथ ही अन्य सरकारी और अर्द्धसरकारी एजेंसियां भी मानकों के आधार पर ग्रेडिंग देंगी।

यूजीसी के अनुसार उच्च शिक्षा संस्थानों की ग्रेडिंग की जरुरतों को पूरा करने के लिए नई व्यवस्था की जा रही है।

Leave a Reply